कोरोना वायरस के लक्षण, इलाज और बचाव

कोरोना वायरस के चलते पूरी दुनिया बहुत बड़े संकट से गुजर रही है । कई देशो में लॉकडाउन की घोषणा की गई है । लोग घबराये  हुए है साइंटिस्ट लगातार इस वायरस की  वैक्सीन खोजने में लगे हैं । मानव के लिए सब से बड़ी समस्या यह है की कोरोना ह्यूमन टु ह्यूमन तेजी से  ट्रांसफर होता है।

कोरोना वायरस

   चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोना वायरस पूरी दुनिया को अपनी चेपट में ले चूका है । दुनिया के सभी लोग घबराये हुए है एक के बाद एक देश अपने यहाँ लॉकडाउन की घोषणा कर रहे है ताकि इस भयावक महामारी को फैलने से रोका जा सके । यह वायरस तेजी से ह्यूमन टु ह्यूमन तेजी से  ट्रांसफर होता है। यह वायरस मानव  शरीर में साँस के द्वारा  फेफड़ों में पहुंचकर व्यक्ति के श्वसन तंत्र को खराब करता है।

वुहान शहर

इस कारण रोगी का दम घुटने लगता है इस स्थिति में यदि उसे सांस ना मिले तो उसकी मौत हो सकती है। लॉकडाउन  के चलते इस समय  यात्रा पर पूर्ण रूप से प्रतिबन्ध लगा  दिया गया है  लेकिन किसी कारणवश आप को ट्रेवलिंग करनी पड़े तो आप को किन किन बातों का धयान में रखकर ट्रेवलिंग करनी चाहिए।

कोरोना वायरस से मोत

वैज्ञानिकों ने कहा गया है  की यह मुखतय जानवरो में पाया जाने वाला वायरस है ।लेकिन अब यह मनुष्य से मनुष्य में भी ट्रांसफर हो रहा है। इसलिए एक देश से दूसरे देश में आने जाने पर भी रूक लगा दी गई है एवं देश  के में रहने वाले लोगों को भी सी-फूड फिलहाल ना खाने की सलाह दी जा रही है। खासतौर पर उन लोगों को जो समुद्री जीवो के शोकिन है तथा जो तटों से जुड़े एरियाज में रहते हैं।

सी-फूड्स

कोरोनो वायरस वायरस  के लक्षण क्या हैं?

  • इंसान के शरीर में पहुंचने के बाद सबसे पहले  कोरोना वायरस उसके फेफड़ों में संक्रमण करता है। इस कारण सबसे पहले बुख़ार, और  उसके बाद सूखी खांसी आती है। बाद में सांस लेने में समस्या होने लगती है।।
  •  चिकित्सा विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना वायरस के लक्षण दिखना शुरू होने में औसतन पाँच दिन लगते हैं हालांकि लोगों में इसके लक्षण बहुत बाद में भी देखने को मिल सकते हैं.
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार वायरस के शरीर में पहुंचने के बाद लक्षण दिखने के बीच 14 दिनों तक का समय हो सकता है. हालांकि कुछ शोधकर्ता मानते हैं कि ये समय 14  से 24 दिनों तक का भी हो सकता है.

कोरोना वायरस से बचाव

जब कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति जब भी खासता  या छीकता है तो ध्यान रहे की संक्रमित व्यक्ति  अपने मुँह को  रुमाल या मास्क से ढक कर रखे। क्योकि उसके थूक के बेहद बारीक कण हवा में फैलते हैं। इन कणों में कोरोना वायरस के विषाणु होते हैं।

संक्रमित व्यक्ति के नज़दीक जाने पर ये विषाणुयुक्त कण सांस के रास्ते आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं।इसलिए संक्रमित व्यक्ति से कम से कम 2 फ़ीट की दुरी बनाये रखे। 

अपने हाथो से अपनी आंख, नाक या मुंह को स्पर्श करने  से बचे और समय समय पर हैंड सेनेटिज़ेर से हाथो को साफ करते रहे ।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *